MP Public News24x7

Latest Online Breaking News

आबकारी विभाग के आशीर्वाद से शराब ठेकेदारों की मौज बायपास से लेकर मध्य शहर तक दिन रात तक बिक रही अवैध रूप से शराब

😊 Please Share This News 😊

  1. शेखर कौशल देवास। देखा जाए तो आबकारी विभाग आए दिन अवैध शराब के निर्माण, भंडारण के विरूद्ध कार्यवाही का ढिंढोरा पीटते हुए मीडिया में वाहवाही बटोर रहा है, लेकिन जमीनी हकीकत है कि जिला आबकारी विभाग के खुले आशीर्वाद के चलते शराब ठेकेदारों ने जिले भर में अवैध शराब के कामकाज में धूम मचा रखी है। शराब ठेकेद्वारा द्वारा चार पहिया वाहन से बड़े पैमाने पर अवैध शराब भी क्षेत्रों में सप्लाई की जा रही है। इसके साथ ही शहर में बड़े पैमाने पर अवैध रूप से अहाते भी संचालित किए जा रहे हैं। यहाँ तक कि अभी तक कई अहातों कोई शुल्क तक जमा नहीं किया गया है। इसके बाद भी खुलेआम आहते संचालित किए जा रहे है। मामला यही खत्म नही होता। जिलेभर सभी शराब दुकानों से किसी भी शराब दुकान द्वारा उवभोक्ता ओ बिल नहीं दिया जाता है। सबसे हैरतअंगेज बात यह है कि इन सभी अवैध कामों की खबर आबकारी विभाग को है, लेकिन इसके बाद भी आबकारी विभाग अपनी आंख और कान बंद करके खुलेआम इन अवैध कामों का समर्थन कर रहा है। जिला आबकारी अधिकारी वंदना पांडेय की कार्यप्रणाली भी कई सवाल खड़े होते है। सब कुछ खबर होने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। कई बार इन सभी मामलों की जानकारी के लिए जिला आबकारी अधिकारी वंदना पांडेय से संपर्क किया जाता है। या तो मेडम फोन नहीं उठाते हैं या फिर वल्लभ भवन का बहाना करके अपनी जिम्मेदारियों से पल्ला झाड़ लेते हैं। इतना ही नहीं क्षेत्र में अवैध शराब का काम करने वाले ठेकेदारों के हौसले इस कदर बुलंद है। कि खुलेआम चौकी थानों के सामने से अवैध शराब का परिवहन बेखौफ होकर करते हैं। देखा गया है कि आबकारी विभाग के जिम्मेदार अधिकारी चाहे वह महिला निरीक्षक हो या फिर पुरुष निरीक्षक या फिर वरिष्ठ अधिकारी हो सभी ने लगभग ठेकेदारों को अवैध काम करने का खुलेआम आशीर्वाद दे रखा है कि आप दिल खोलकर खुलेआम अवैध शराब का कारोबार कीजिए हम कोई कार्यवाही नहीं करेंगे, यदि किसी मामले में आबकारी विभाग के अधिकारियों को इन अवैध कामों की सूचना दी जाती है तो अधिकारी सीधे से इन ठेकेदारों को यह सूचना पहुंचा देते हैं कि आपकी शिकायत आई है। कुल मिलाकर देखा जाए तो आबकारी विभाग कहने को रह गया है। आबकारी विभाग की कार्यवाही केवल कच्ची शराब एव महुआ लहान तक ही सीमित है, जबकि खुलेआम शराब ठेकेदारों की उंगली पर कठपुतली की तरह नाच रहा है। मध्य शहर में छोटी छोटी गुमटियों, दुकानो, घरों से लेकर शहर की सीमा से लगे बायपास मार्ग पर स्थित ढाबों, होटलों पर सुबह सूर्य निकलने से लेकर आधी आधी रात तक अवैध रूप से शराब बेची जा रही है। आबकारी विभाग के अधिकारियों को सबकुछ दिखाई दे रहा है, लेकिन परिवार उजाड़ने एवं युवा पीढ़ी को नशे के गर्त में ढकेलने वाले अवैध शराब विक्रय के कारोबार को प्रश्रय देते हुए आबकारी अधिकारी जमकर चांदी काट रहे है। शहर के बीच गली, मोहल्लो से लेकर कालोनियों में अवैध अथवा डायरियों के द्वारा शराब की बिक्री से जहां क्षैत्रिय रहवासियों, महिलाओं को नशाखोरी करने वालो की गालीगलौच, अभद्रता का सामना करना पड़ता है, वहीं बायपास मार्ग इन्दौर रसलपुर की और हो या भोपाल, मक्सी की और बायपास मार्ग पर स्थित ढाबों, होंटलों पर दिन रात अवैध शराब बेची जा रही है। परिवारों को उजाड़ा जा रहा है। युवाओं के जीवन से खिलवाड़ किया जा रहा है। आबकारी विभाग के अधिकारी अपनी जेब भरने अथवा जमकर चांदी काटने में लगे हुए है।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]

लाइव कैलेंडर

October 2022
M T W T F S S
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31  
error: Content is protected !!