MP Public News24x7

Latest Online Breaking News

नर्मदापुरम का बहुचर्चित सुखतवा पुल,प्रशासन की पोल खोलता सुखतवा पुल। सैंकड़ों लोगों को लेकर पुल पार करता रहा ट्राला।

😊 Please Share This News 😊

नर्मदापुरम का बहुचर्चित सुखतवा पुल,प्रशासन की पोल खोलता सुखतवा पुल। सैंकड़ों लोगों को लेकर पुल पार करता रहा ट्राला।


नर्मदापुरम संभाग का सुखतवा नदी पर बना पुल प्रशासन की लगातार क्रमबद्ध कलई खोल रहा,प्रशासन इस लिए क्योंकि वर्तमान समय सरकार संचालन कार्य की लगाम अधिकारी ही अपने हाथों में लिए हुए हैं,इसके कई उदाहरण पांचवी अनुसूची के क्षेत्र बैतूल सतपुड़ा की वादियों से घिरे वन्य क्षेत्र के रूप में भी जाना जाता है,जहां प्रशासन सांसद को सांसद नही समझता हो ऐसा ही माहौल वर्तमान स्थिति को शासन कर रही मध्यप्रदेश की सरकार द्वारा पूरे प्रदेश में प्रदर्शित हो चुका है। सुखतवा पुल अंग्रेजो के समय में स्थापित किया गया था जो की 2022 में टनों बजनी ट्राले द्वारा धारासही कर दिया गया चर्चा में घटना को लेकर वजन, सेल्फी,ड्राइवर कई कारण आम जनता में प्रचलित हुए गाहे बगाहे त्वरित समाधान हेतु प्रशासन की कड़ी मेहनत से दोबारा दूसरे सहयोगी पुल को तैयार कर मिया मिट्ठू बना लिया गया,इस वर्ष प्रकृति द्वारा पर्याप्त बारिश (नेताओं के लिए गले की फांस) या कह सकते हैं मोदी जी द्वारा जनता को लगभग दो वर्षों तक जम्मू कश्मीर के नेताओ (फारुख अब्दुल्ला,महबूबा मुफ्ती) की तरह नजर बंद किए जाने से प्रदूषण में आई कमी के कारण पर्याप्त बारिश के चलते कई बार इस पुल को क्षति का सामना करना पड़ा,प्रशासन जी तोड़ मेहनत कर पुल को सुचारू करने में लगा हुआ है जिस प्रकार कई वर्षों से माचना बाईपास पुल का निर्माण कार्यरत है,पुल पर बार बार पानी आ जाने से जनता और प्रशासन दोनो ही मतिभ्रम का शिकार हो चुके हैं। पुल के दोनो तरफ साइन बोर्ड न होने से प्रशासन यह नहीं समझ पा रहा की नियम केसे लागू किया जाए की “पुल पर पानी होने की अवस्था में पुल पार करना मना है” और जनता प्रशासन के मतिभ्रम के दृष्टिगत यह नहीं समझ पा रही की “पुल पर पानी होने की अवस्था में पुल पार करना मना है”। रोजाना सड़क हादसों के चलते कई जाने जा रही हैं वही सुखतवा पुल पर ट्राले में सैंकड़ों लोगों को लेकर ट्राला पुल पर कर रहा है वीडियो में देखा जा सकता है की पुलिस पर्सन भी पीछे खड़ा होकर घटना को होते देख रहा है अगर लापरवाही से घटना घट जाती तो कई लोगों की जान एवम आवागमन बाधित हो जाता,पिछले दिनों माचना पर पानी होने के बबजूत एक बस ने पुल पर कर साहस और सौर्य का प्रदर्शन कर सूचित कर दिया था की मतिभ्रष्टता सक्षम अधिकारी से लेकर कर्मचारी तक प्रबल मात्रा में गृहस्थ है,उसी बस में जनता द्वारा बताया गया था की पुलिस कर्मी भी स्थान प्राप्त मौजूद थे, प्रशासन ही मध्यप्रदेश को कार्यरत अवस्था में रखे हुए है मध्यप्रदेश के सीएम से लेकर मंत्री परिषद के सभी महानुभव घटना के पश्चात निंदा,घोर निन्दा,एवं दुख प्रगट करने हेतु उपस्थि हैं।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]

लाइव कैलेंडर

October 2022
M T W T F S S
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31  
error: Content is protected !!