MP Public News24x7

Latest Online Breaking News

ट्रेनी कैप्टन का शव कोच्ची ले जाया गया:साथी बोले – कैप्टन को स्विमिंग और बैडमिंटन बहुत पसंद था, 5 महीने में पूरी होने वाली थी ट्रेनिंग

😊 Please Share This News 😊

ट्रेनी कैप्टन का शव कोच्ची ले जाया गया:साथी बोले – कैप्टन को स्विमिंग और बैडमिंटन बहुत पसंद था, 5 महीने में पूरी होने वाली थी ट्रेनिंग

आर्मी ट्रेनी कैप्टन निर्मल शिवराजन।
नर्मदापुरम के पास उफनती नदी की बाढ़ में जान गंवाने वाले पचमढ़ी आर्मी एजुकेशन सेंटर (एईसी) के ट्रेनी कैप्टन निर्मल शिवराजन अच्छे स्पोर्ट्समैन और खुशमिसाज, मिलनसार व्यक्ति थे। 32 साल के युवा कैप्टन निर्मल करीब डेढ़ साल से पचमढ़ी की एईसी में ट्रेनिंग ले रहे थे। 5 महीने बाद दिसंबर में ही उनकी ट्रेनिंग पूरी होने वाली थी। देश की सीमा पर दुश्मनों से लड़ने वाले कैप्टन की बाढ़ की चपेट में अकाल मौत से आर्मी एजुेकशन सेंटर, आर्मी दुखी है। साथ ही देश के लिए भी एक बड़ी क्षति है, जो एक युवा कैप्टन देश ने खो दिया।
शाम को माखननगर में शव का पोस्टमार्टम हुआ। ट्रेनिंग सेंटर के लेफ्टिनेंट कर्नल सौरभ, मेजर रमेश और स्टॉफ ने उनके शव काे भोपाल ले गए। भोपाल से शव को केरल कोच्ची ले जाया जाएगा। उनका सम्मान के साथ गृह जिले में उनकी अंतिम विदाई होगी। सेंटर के स्टॉफ ने कहा कि ट्रेनी कैप्टन निर्मल एक अच्छा खुशमिसाज, मिलनसार और स्पोर्ट्समैन था। वैसे तो फौजी हर खेल में एक्टिव होते हैं। कैप्टन अन्य खेल के अलावा स्विमिंग और बैडमिंटन में ज्यादा रुचि रखते थे। उनका जाना, सभी के लिए बड़ी क्षति है।
*कैप्टन की पत्नी जबलपुर में लेफ्टिनेंट*
केरल राज्य के कोच्ची के रहने वाले ट्रेनी कैप्टन निर्मल डेढ़ साल से पचमढ़ी आर्मी एजुकेशन सेंटर में प्रशिक्षण ले रहे थे। उनकी पत्नी लेफ्टिनेंट गोपीचंदा आर्मी की अस्पताल में नर्सिंग स्टॉफ में हैं। दिसंबर 2021 ही उनकी शादी हुई थी। 13 अगस्त को वे पत्नी से मिलने जबलपुर गए थे। 16 अगस्त को सुबह 6 बजे उन्हें सेंटर पहुंचना था, वे सेंटर नहीं पहुंचे। ऐसे में कैप्टन की पत्नी लेफ्टिनेंट गोपीचंदा से संपर्क किया गया तो पता चला वे 15 अगस्त को ही कार से दोपहर करीब साढ़े 3 बजे पचमढ़ी के लिए रवाना हो गए थे।
*लोकेशन से तलाशने में मिली सफलता*
एसडीओपी मदनमोहन समर ने बताया 15 अगस्त की रात को बारिश अधिक होने से बनखेड़ी से पिपरिया के बीच एक पुल क्षतिग्रस्त हो गया था और बरेली से पिपरिया मार्ग की नदियां उफान पर थी। ऐसे में वे बाड़ी, बरेली, नसीराबाद मार्ग होते हुए पचमढ़ी जा रहे थे। उन्होंने पत्नी से इस बात का जिक्र भी किया था। उन्होंने पत्नी को गुगल लोकेशन भी भेजी थी। हैंड वाॅच में जीपीएस चालू था। जिससे उनकी लोकेशन माखननगर-नसीराबाद के बीच बछवाड़ा गांव में नदी की मिली। पुलिस, आर्मी और होमगार्ड को उन्हें तलाश करने में आसानी हुई। तीसरे दिन पुल से करीब 100 मीटर दूर गहरे पानी में उनकी कार मिली। कार मिलने के बाद गोताखोर और आर्मी के जवानों के साथ नाव से सर्चिंग की घटनास्थल से 2 किमी दूर बबूल के पेड़ में फंसा उनका शव मिला।
क्रांतिकारी किसान मजदूर संगठन:कृषक विश्राम गृह में मासिक बैठक संपन्न, किसानों की समस्याओं पर हुई चर्चा
सिवनी मालवा में गुरुवार को क्रांतिकारी किसान मजदूर संगठन की मासिक बैठक कृषि उपज मंडी समिति के कृषक विश्राम गृह में आयोजित की गई। बैठक में किसानों की विभिन्न समस्याओं के के साथ पीएम सम्मान निधि आदि शासकीय योजनाओं में किसानों को आ रही समस्याओं पर चर्चा की गई।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]

लाइव कैलेंडर

October 2022
M T W T F S S
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31  
error: Content is protected !!