MP Public News24x7

Latest Online Breaking News

कमिश्नर श्री चन्द्रशेखर ने ग्रामीण विकास कार्यों का किया निरीक्षण। अमृत सरोवर तालाब, पीएम आवास एवं नल-जल योजना के कार्यों का लिया जायजा

😊 Please Share This News 😊

बालाघाट। टोपराम पटले

जबलुपर संभाग के कमिश्नर श्री बी चन्द्रशेखर ने आज 02 मई 2022 को बालाघाट जिले के प्रवास के दौरान वारासिवनी विकासखंड के ग्राम मेंडकी के पिपरटोला एवं ग्राम डोके का भ्रमण कर ग्रामीण विकास कार्यों का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने मनरेगा से बनाये जा रहे अमृत सरोवर तालाब, प्रधानमंत्री आवास एवं नल-जल योजना के कार्यों को देखा और ग्रामीणों से चर्चा की।
इस दौरान कलेक्टर डॉ गिरीश कुमार मिश्रा, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री विवेक कुमार, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री अरूण श्रीवास्तव, वारासिवनी एसडीएम श्री संदीप सिंह, जनपद पंचायत वारासिवनी की मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुश्री दीक्षा जैन, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री सिंह, जिला पंचायत के परियोजना अधिकारी श्री संदीप चौधरी, श्रीमती नेत्रा उके एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
मेंडकी के पिपरटोला में अमृत सरोवर तालाब का निरीक्षण
कमिश्नर श्री चन्द्रशेखर ने ग्राम मेंडकी के पिपरटोला में जल अभिषेक अभियान के अंतर्गत मनरेगा की 14 लाख 98 हजार रुपये की लागत से बनाये जा रहे अमृत सरोवर तालाब का निरीक्षण किया। उन्होंने पिपरटोला में दो पहाड़ियों के नीचे बनाये रहे इस तालाब का कार्य गुणवत्ता के साथ समय सीमा में पूर्ण करने के निर्देश दिये। इस दौरान उन्होंने तालाब निर्माण के लिए तैयार किये गये डीपीआर के बारे में जानकारी ली। निरीक्षण के दौरान 12 मजदूर कार्य करते पाये गये। उन्होंने मजदूरों को समय पर भुगतान करने के निर्देश दिये।
पिपरटोला में प्रधानमंत्री आवास का निरीक्षण
कमिश्नर श्री चन्द्रशेखर ने ग्राम मेंडकी के पिपरटोला में प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत बनाये जा रहे आवास का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने हितग्राही तेजलाल पिता फूलचंद से जानकारी ली कि उसे आवास कब स्वीकृत किया गया है, आवास के लिए कितनी किश्त मिली है और मनरेगा से मजदूरी मिली या नहीं। इस पर हितग्राही तेजलाल ने बताया कि उसे वर्ष 2020-21 में आवास स्वीकृत किया गया है। उसे आवास की दो किश्त मिल चुकी है। दूसरी किश्त माह फरवरी 2022 में ही मिली है। ग्राम रोजगार सहायक द्वारा बताया गया कि तेजलाल को मनरेगा से मजदूरी भुगतान के लिए मस्टररोल जनरेट कर लिया गया है।
तेजलाल के आवास में स्लैब ढल चुका है और प्लास्टर का काम चल रहा है। निरीक्षण के दौरान पता चला कि तेजलाल की छोटी बेटी भी मकान निर्माण में कार्य कर रही है। कमिश्नर श्री चन्द्रशेखर ने बालिका से पूछा कि उसकी कितनी पढ़ाई हुई है, तो उसने बताया कि कक्षा 09 के बाद उसने पढ़ाई छोड़ दी है। इस पर उन्होंने तेजलाल को समझाया कि अपनी बेटी की पढ़ाई को बंद न होने दें, बल्कि उसे आगे तक पढ़ायें। शासन की ओर से गणवेश से लेकर पुस्तकें एवं छात्रवृत्ति तक बच्चों को दी जा रही है। अत: इन सुविधाओं का उपभोग कर अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दें। बालिका शिक्षित होगी तो शादी के बाद अपने परिवार का पालन-पोषण अच्छे कर सकेगी।
कमिश्नर श्री चन्द्रशेखर ने ग्राम पिपरटोला के ही प्रधानमंत्री आवास के दूसरे हितग्राही तुकड़ूजी पिता उडकुड़ के आवास को देखा और उससे चर्चा की। तुकड़ूजी का आवास बनकर तैयार हो गया है और उसका परिवार में उसमें रहने भी लगा है। तुकड़ूजी ने बताया कि उसे आवास के लिए 01 लाख 48 हजार रुपये की राशि मिली है। अभी उसके घर पर शौचालय नहीं है। शौच के लिए उसके परिवार को पहाड़ी के किनारे जाना पड़ता है। गांव में कुछ परिवार और हैं, जिनके घर में शौचालय नहीं बने है। तुकड़ूजी की बेटी प्रसव के बाद अपने मायके आयी हुई थी। कमिश्नर श्री चन्द्रशेखर ने तुकड़ूजी की बेटी से चर्चा कर पूछा कि उसकी डिलेवरी घर पर हुई या अस्पताल में हुई है, उसके बच्चे का जन्म के समय कितना वजन था, उसके बच्चें का टीकाकरण हुआ या नहीं। तुकड़ूजी की बेटी ने बताया कि उसकी डिलेवरी अस्पताल में हुई है, उसके बच्चे को टीके लग चुके है और जन्म के समय बच्चे का वजन 02 किलोग्राम था।
डोके में नल-जल योजना का निरीक्षण
कमिश्नर श्री चन्द्रशेखर ने ग्राम डोके में जल-जीवन मिशन के अंतर्गत संचालित नल-जल योजना का निरीक्षण किया। उन्होंने घरों में जाकर देखा कि नल से पानी आ रहा है या नहीं और घरों में नल के लिए स्टेंड बनाये गये हैं या नही। निरीक्षण में पाया गया कि नल-जल योजना के नल में पानी आ रहा है। एक घर में नल के लिए बनाया गया स्टेंड टूटा मिला, उसे शीघ्र ठीक करने के निर्देश दिये गये। इस दौरान ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि ग्राम डोके में पिछले एक साल से नल-जल योजना से उन्हें पानी मिल रहा है। गांव में 337 नल कनेक्शन दिये गये है। नल-जल योजना के लिए 75 हजार लीटर क्षमता की टंकी भी बनी हुई है। गांव में 14 हेंडपंप भी चालू है। ग्रामीणों ने बताया कि जल कर के रूप में प्रति कनेक्शन प्रति माह 60 रुपये की राशि तय की गई है, जिसे इस माह से वसूल किया जायेगा।
कमिश्नर श्री चन्द्रशेखर ने ग्रामीणों से कहा कि वे शासन ने उनके गांव में नल-जल योजना बनाकर दी है, अब उसका संचालन करना पंचायत के जिम्मे है। प्रति नल कनेक्शन 60 रुपये माह का भी लिया जाये तो प्रति दिन 02 रुपये का खर्च आता है, जो कि बहुत कम है। अत: जल-कर की राशि को बढ़ाया जाना चाहिए। ग्रामीणों की भी जिम्मेदारी होगी कि वे समय पर जलकर की राशि जमा करायें और नल से पानी को व्यर्थ न बहने दें । ग्रामीण शुद्ध पेयजल की सुविधा के लिए पाईप लाईन एवं गांव में लगाये गये नलों की सुरक्षा करें। कमिश्नर श्री चन्द्रशेखर की समझाईश पर ग्रामीणों ने भी सहमति दी कि वे गांव की भलाई के लिए नल-जल योजना का संचालन अच्छे से करेंगें।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]

लाइव कैलेंडर

October 2022
M T W T F S S
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31  
error: Content is protected !!